प्रतिभा से लबरेज हैं सरकारी स्कूल के बच्चे

प्रतिभा से लबरेज हैं सरकारी स्कूल के बच्चे

उत्तर प्रदेश सरकार परिषदीय स्कूलों में पढ़ाई के माहौल को बेहतर बनाने और बच्चों की प्रतिभा में निखार लाने के लिए इन स्कूलों में छात्र संसद के गठन की तैयारी चल रही है।उत्तर प्रदेश सरकार परिषदीय स्कूलों में पढ़ाई के माहौल को बेहतर बनाने और बच्चों की प्रतिभा में निखार लाने के लिए इन स्कूलों में छात्र संसद के गठन की तैयारी चल रही है। इसके जरिए विद्यार्थियों को बेहतर ढंग से मुख्यधारा से जोड़ा जा सकेगा, ऐसा सरकार का मानना है। राज्य परियोजना

निदेशालय ने सभी विद्यालयों में हेड बॉय और हेड गर्ल चुनने को कहा गया है।यह बच्चे ही स्कूल में बच्चों को दिशा देने का काम करेंगे, छात्र संसद के गठन के बाद इन बच्चों को पढ़ाई से जुड़ी हुई कई जिम्मेदारियां सौंपी जाएंगी। यह आपस में बच्चों की निगरानी भी करेंगे, शिकायत भी करेंगे और दिए गए निर्देशों पर अमल भी कराएंगे।

छात्र संसद में प्रधानमंत्री, उपप्रधानमंत्री, सचिव और पांच सदस्यों का मंत्रिमंडल होगा। इस तरह से स्कूली छात्रों की समस्याएं बेहतर ढंग से आला अफसरों तक पहुंच सकेंगी। बच्चों में देश और समाज के प्रति समझ भी विकसित होगी। इससे दो काम होंगे एक तो बच्चे शिक्षा की मुख्य धारा से जुड़ेंगे, दूसरे स्कूल की जिम्मेदारियों को अपना मान कर चलेंगे।

रिपोर्ट – हमारा ब्लैकबोर्ड टीम

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *