पंखों से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है

पंखों से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है

कानपुर – मंजिलें उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है… ये लाईने पूरी तरह सटीक बैठती है कानपुर की एक एथलीट खिलाड़ी पर।कानपुर की मंधना राम नगर की निवासी ये बेटी एथलीट के ट्रैक पर नित्य नये आयाम गढ़ती चली जा रही है।प्रदेश लेबल पे ये किसी परिचय की मोहताज़ नही है।प्रदेश लेबिल की कई प्रतियोगिताओ मे कई स्वर्ण मेडल और सिल्वर मेडल अपने नाम कर चुकी है।भविष्य मे इनका सपना देश के लिये राष्ट्रीय पदक जीतना है और अपने देश का नाम रोशन करना है। इस होनहार खिलाड़ी का नाम है शुभांगी बाजपेई। मात्र 15 वर्ष की उम्र मे शुभांगी ने अपने मेहनत और लगन के दम पर ये कीर्तिमान बनाकर अपना एथलीट बनने का सपना पूरा करने के लिए प्रयाशरत है।सुभांगी का परिवार पूरी तरह से उनका सहयोग करता है साथ ही उनके ट्रनेर भी अपना पूरा सहयोग कर के भविष्य का एक एथलीट तैयार करने मे जी जान से लगे हुए है।

ये खेल का मैदान और एथलीट का ट्रैक , इस बात का जीता जागता सबूत है , की ये जो 15 वर्षीय बेटी शुभांगी के कदम है! वो भविष्य के एक नयी इबारत लिखने की तैयारी कर रहे है ! एक एथलीट को तैयार कर रहे है।बेटी शुभांगी के अभी तक जीते हुए प्रमाणपत्र और मेडल इस बात के प्रमाण है। मैदान पर शुभांगी और इनके ट्रेनर मुनीन्द्र जी की मेहनत आने वाले समय के एक नये एथलीट को जन्म दे रही है।
भारत की इस बेटी और उनके ट्रेनर मुनीन्द्र जी का सपना है! देश के लिये राष्ट्रीय पदक जीत कर !अपना और अपने देश का नाम रोशन करने का। मुनींद्र जी बताते है की शुभांगी जबरदस्त मेहनत और लगन से अपनी ट्रेनिंग करती है इसकी मेहनत एक दिन जरूर सफल होगी और शुभांगी भी राष्ट्रीय पदक अवस्य लाएगी ! प्रदेश लेबल के खेलो में शुभांगी ने हमेशा अपना अच्छा प्रदर्शन किया है ! शुभांगी ने अपने परफॉर्मेंस को और बेहतर बनाने के लिए ग्रीन पार्क में भी जुडी हुई है ! ट्रेनर के अनुसार अगर शिवांगी को सपोर्ट मिलता रहा तो ये बुलंदियों को जरूर छुएंगी !

शुभांगी ने बताया की इस पूरी यात्रा में मम्मी पापा का पूरा सपोर्ट रहा ही है !उन्होंने कभी भी किसी चीज के लिए मना नहीं किया बस उनका ये ही कहना था की जो भी करो बस ऐसा करो की अपना 100 प्रतिशत दे सको अगर उनका सपोर्ट रहा तो आगे भी जाएंगे और स्वर्ण पदक ले के आएंगे ! शुभांगी ने बताया की मेरा स्पोर्ट्स में इंट्रेस्ट था !आज के समय में लडकिया आगे बढ़ के प्रतियोगिताओ में हिस्सा ले रही है और आगे बढ़ रही है ! शिवांगी का कहना है की माता पिता और स्कूल के टीचर और साथ ही उनके ट्रेनर का साथ मिलता रहा तो सभी के सहयोग से वो आगे बढ़ती रहेंगी और एक दिन अपने माता पिता और स्कूल का और देश का नाम रोशन करेंगी !

शुभांगी के माता पिता ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के सरकार के अभियान के साथ बढ़ते हुए एक लाइन और जोड़ दी है ” बेटी बढ़ाओ ” ताकि समाज में बेटी की भी अपनी पहचान होनी चाहिए!बेटी जिस छेत्र में आगे बढ़ना चाहे उसका सहयोग कर उसे आगे बढ़ाना चाहिए ये हर माँ बाप का कर्तब्य होना चहिये ! पिता ने बेटी के सपनो को अपना मान कर उसे सच करने में अपना पूरा सहयोग कर रहे है ! पिता का कहना है की
बेटी ने पिछले कुछ वर्षो में कई पदक जीत के लायी है ! उन्होंने कहा की बेटी का सपना देश का नाम रोशन करने का!हम सब उसका पूरा सहयोग कर रहे है।

रिपोर्ट – दिवाकर श्रीवास्तव

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *