हमारा ब्लैकबोर्ड अपडेट

Birth Anniversary: भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

डॉ. राजेंद्र प्रसाद का जन्म 3 दिसंबर 1884 को हुआ था। वह भारत के पहले राष्ट्रपति थे। भारत की आजादी की लड़ाई में उन्होंने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था। कांग्रेस में शामिल होने वाले बिहार के वह प्रमुख नेताओं में से थे। वकालत में पोस्ट ग्रैजुएट डॉ. राजेंद्र प्रसाद महात्मा गांधी के बहुत बड़े...

कर्नाटक के मात्तुर गांव में बच्चा-बच्चा बोलता है संस्कृत

कर्नाटक -  संस्कृत के अस्तित्व को लेकर अक्सर चिंता जताई जाती है. संस्कृत को लेकर स्कूलों में छात्रों का रुझान ना होने की वजह से ये सवाल किए जाते हैं कि इस भाषा का भविष्य में कोई नाम लेने वाला भी रहेगा या नहीं. इन्हीं सब आशंकाओं के बीच दक्षिणी राज्य कर्नाटक से संस्कृतप्रेमियों...

स्वच्छता का संदेश देने के लिए सफाई कर्मचारी ने बनाया गीत, सोशल मीडिया में हुआ वायरल

मुंबई -  केंद्र सरकार की सबसे महात्वाकांक्षी योजना 'स्वच्छ भारत अभियान' को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने और इसके प्रति जागरूक करने के लिए पुणे के एक सफाईकर्मी ने अनूठा प्रयास शुरू किया है। वह एक गीत के माध्यम से लोगों को गीले और सूखे कूड़े को अलग-अलग करके डालने के लिए प्रेरित...

अलग ही स्‍टाइल में ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक कर रही है ये MBA स्‍टूडेंट

इंदौर- मध्‍य प्रदेश का इंदौर देश के सबसे स्‍वच्‍छ शहर है। अब ये शहर ट्रैफिक नियमों को लेकर भी नंबर 1 बनने की चाह में है। जी हां लोगों को ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक बनाने के लिए शहर में आदर्श सड़क कैंपेन चलाया जा रहा है। इस कैंपेन का सबसे अहम हिस्‍सा है...

मासूम हाथों में सुरक्षित है पर्यावरण

हर हफ्ते पौधरोपण करने वाली मासूम बच्ची को PM मोदी कर चुके हैं सम्मानित मेरठ – सबसे छोटी उम्र में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार हासिल करने वाली मेरठ की ईहा दीक्षित ने पर्यावरण को बचाने का संकल्प लिया है। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार-2019 पाने वाली मेरठ की ईहा दीक्षित को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पौधा...

भरा हो बाढ का पानी लेकिन पढाई तो होकर रहेगी

जीवन में किसी मुश्किल काम को करने के आदमी के सामने दो ही रास्ते होते हैं। या तो वह हार मान ले या फिर पूरा करने की ठान ले। अगर आप अपने पर आ जायें तो बडी बडी से मुश्किलों को हरा सकते हैं। जी हां कुछ ऐसे ही फौलादी इरादे सीतापुर के रामपुर...

मटर बर्गर बदल देगा लंच बॉक्स का जायका

बच्चों को लंच बॉक्स में रोज रोज क्या दे यह एक बडा सवाल है जिससे हमें और आप को रोज ही गुजरना होता है। हम इस कालम के माध्यम से कोशिश करेंगे कि बच्चों का सप्ताह में एक बार स्वाद बदल जाये और उन्हें कुछ उनका मनपसंद लंच बॉक्स में दिया जाये। बलभद्र लाल...

असम नहीं किसी से कम

देशाटन का शौक बचपन से रहा है। यूं तो अकेले जाते हुये हमने अपने देश भारत के दो ही राज्यों में कदम नहीं रखा था। मेघालय और लक्ष्यद्वीप. हमारे देशाटन के शौक के चलते परिवार के साथ मेरी यात्राओं में इस वर्ष दो और राज्यों के नाम और जुड़ गये- असम और मेघालय. साथ...

बचपन के स्कूल को दी अनूठी गुरदक्षिणा

प्रतापगढ के इस प्रधान के प्रयासों की चारो तरफ हो रही है सराहना उत्तर प्रदेश के ग्राम सहाब पुर विकास खंड कुंडा प्रतापगढ़ के प्रधान प्रभाकर सिंह आज किसी परिचय के मोहताज नहीं है। प्रतापगढ़ के प्रधान प्रभाकर सिंह के प्रयासों के कारण शहाबपुर का प्राथमिक विद्द्यालय अब कान्वेंट स्कूलों को मात दे रहा है।...

स्‍कूल में नहीं था टायलेट… बच्‍ची ने कहा, काट दो मेरा नाम

बच्‍ची ने स्‍कूल न आने के लिए प्रिंसिपल को लिखी चिठठी स्कूल में केवल शौचालय की समस्या नहीं है बल्कि इसके अलावा भी बच्चों को कई सारी दिक्कतें हो रही हैं। बच्चों के बैठने के लिए क्लास रूम नहीं हैं। बच्चे ईंट पत्थर के ऊपर बैठकर खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करने पर मजबूर हैं।...