बड़ों की बात

स्‍मार्ट क्‍लास नहीं पहले ब्‍लैक बोर्ड तो दीजिये स्‍कूलों को

क्रासर- देश के पचास हजार सरकारी स्‍कूलों में ब्‍लैक बोर्ड तक नहीं है ब्‍लैक बोर्ड नाम आते ही स्‍कूल, बचपन और स्‍कूली दिनों की मौजमस्‍ती आंखों में तैरने लगती है। ब्‍लैक बोर्ड का रंग काला होता है लेकिन यही ब्‍लैक बोर्ड देश का भविष्‍य संवारता है। देश को कुश्‍ल नेतृत्‍व देता है। दिशा देता है।...