असम नहीं किसी से कम

असम नहीं किसी से कम

देशाटन का शौक बचपन से रहा है। यूं तो अकेले जाते हुये हमने अपने देश भारत के दो ही राज्यों में कदम नहीं रखा था। मेघालय और लक्ष्यद्वीप. हमारे देशाटन के शौक के चलते परिवार के साथ मेरी यात्राओं में इस वर्ष दो और राज्यों के नाम और जुड़ गये- असम और मेघालय. साथ ही मेरी यात्रा के खाते में पूरा देश हो गया. अब केवल एक ही राज्य ही लक्ष्यद्वीप बाकी है. धारा 370 हटने के बाद को देखा जाए तो एक और नया नाम यानी लद्दाख भी अब बाकी हो गया।
30 मई 2019 को कानपुर से ट्रेन द्वारा शुरू हुई इस यात्रा के दौरान दो रातें (गुवाहाटी) असम में गुज़ारने के बावजूद यहां कुछ खास घूमना फिरना नहीं हो पाया. हाँ माता कामख्या देवी के दर्शन बेटी प्रत्यक्षा, भार्या और ग्रुप के साथियों आई. डी. राम जी और कृष्णा भारतिया मैम के साथ हम लोगों ने किया. उसके बाद हम लोग कार से निकले शिलांग के लिए…
यहां बताता चलूं इसके पहले देश में जितने जगह हम गए, अपनी तत्काल व्यवस्था के साथ गए. लेकिन पिछले साल ईश्वर आनंद सर और कृष्णा मैम के साथ साथ केरल की पूर्ण व्यवस्थित खूबसूरत सफल यात्रा के प्रयोग के उपरांत थोड़ा अलग एक नए प्रयोग के साथ इस बार हम लोगों ने पैकेज न करके कार और ठहरने के स्थान को अलग अलग ऑनलाइन बुक किया. असम में ही पोस्टेड अपने साहवेस वालंटियर प्रमोद शर्मा से वहां के विषय मे जानकारी लेकर उन्ही के दिशा निर्देशन में ओयो होम और एक प्राइवेट ट्रैवेल एजेंसी से इंनोवा कार बुक की. गुवाहाटी में साहवेस सहयोगी श्री जितानी अंकल ने रात्रि विश्राम के लिए रूम बुक करवा दिया था जिससे हम को नए शहर में कुछ खोजने आदि में दिक्कत नहीं हुयी.
हम सभी के जाने का रिजर्वेशन डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस से और लौटने का नार्थ ईस्ट एक्सप्रेस से साहवेस वालंटियर आशीष गुप्ता ने पहले ही करा दिया था. राजधानी में ये हमारा पहला सफर था जिसे हम कुछ समय पहले साझा भी कर चुके हैं
एक बात और है कि मेरी वो हर यात्रा जिसमें बेटी मेरे साथ होती है अपने मनोरंजन के साथ साथ उसके लिए बतौर एक शिक्षक बनकर उसे देशाटन कराता हूँ क्योंकि देशाटन और चित्रकारी उसके भी प्रमुख शौक हैं.
प्रत्यक्षा को भी घूमने के साथ साथ वहां की संस्कृति-सभ्यता, रहन-सहन, खानपान आदि के विषय मे जानने का बहुत शौक है. नेपाल यात्रा के साथ साथ यह उसकी यात्राओं में देश बारहवां राज्य है।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *